टोल टैक्स से इन गाड़ियों को छुटकारा, फास्टैग से सरकार को नुकसान

News Travel

देश में मौजूदा समय में लगभग सभी एक्सप्रेस वे और हाईवे पर टोल टैक्स वसूला जा रहा है। लेकिन क्या आपको पता है 25 ऐसे वाहन की कैटेगरी है जिनसे ये टैक्स नहीं वसूला जाता है। इनमें सांसद, विधायक के अलावा कई सरकारी कर्मचारी शामिल है। वहीं सभी गाड़ियों के लिए टोल टैक्स की कीमत अलग-अलग है। 

25 कैटेगरी के वाहन नही भरते टोल टैक्स

एक्सप्रेस और हाईवे पर लगभग सभी गाड़ियों से टैक्स लिया जाता है जिसे टोल टैक्स कहते हैं। लेकिन सरकार ने 25 ऐसे वाहनों की श्रेणी है जिनसे टैक्स नहीं लिया जाता है। इनमें राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मंत्रियों से लेकर सासंद, जज-मजिस्ट्रेट के साथ बड़े-बड़े अधिकारियों के नाम शामिल हैं। इसका परिणाम ये होता है कि कई मंत्रालय के अधिकारी अपने निजी यात्रा के दौरान भी टोल टैक्स नहीं देते हैं। इसेक अलावा रक्षा, पुलिस, फायर पाइटिंग, एंबुलेंस, सव वाहन, चुनिंदा राज्य और केंद्र सरकार के अधिकारी, मजिस्च्रेट, सचिव और विबिन्न विभागों के सचिव, राष्ट्रीय राजमार्ग प्रधिकरण  चजजजजजजजजज के अधिकारी शामिल हैं। वहीं अगर राज्य की बात करें तो राज्य सरकार की छूट दिए जाने वाले लोगों की अपनी सूची होती है।

क्यों लिया जाता टोल टैक्स ?

अगर आप देश के किसी भी एक्सप्रेस वे और राजमार्ग से गुजरते हैं तो भुगतान करना होता है जिसे टोल टैक्स कहते हैं। सरकार लगातार देश में अच्छी कनेक्टीविटी के लिए काम कर रही है। इसमें काफी सारा पैसा खर्च होता है। इन खर्चों की वसूली के लिए सरकार एक्सप्रेस वे पर चोल टैक्स लेती है।

2021 में Fastag  हुआ अनिवार्य

15 फरवरी 2021 से सरकार ने देश में टोल प्लाजा पर फास्टैग अनिवार्य कर दिया। केंद्रीय सरकार ने टोल टैक्स कलेक्शन को आसान बनाने के लिए और टोल प्लाजा पर जाम से निजात पाने के लिए फास्टैग को अनिवार्य किया था।

Fastag  से क्लेक्शन में गड़बड़ी

सरकार ने सुविधा और सुरक्षा को लेकर फास्टैग अनिवार्य किया था। लेकिन आजकल फास्टैग से गड़बड़ी का मामला सामने आ रहा है। टोल पार करने के लिए लोग बड़ी गाड़ियों पर छोटी गाड़िया का फास्टैग लगाकर निकल रहे हैं। इस वजह से सरकार को लाखों का नुकसान सहना पड़ रहा है। नेशनल अथोरिटी हाईवे ऑफ इंडिया ने जब इसकी पड़ताल की तो इसका सच सामने आया। अधिकारियों ने जांच में पता चला कि किसी और गाड़ी का फास्टैग लगाकर लोग दूसरी गाड़ियों से टोल पार कर रहे हैं। इससे 300-500 रुपए तक टैक्स की चोरी होती है और सरकार को राजस्व में लाखों का नुकसान होता है।

0Shares